धोनी का इंटरनेशनल क्रिकेट कैरियर किसने किया तबाह, युजवेंद्र चहल ने बताया पूरा सच

0

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान और दिग्गज बल्लेबाज महेंद्र सिंह धोनी के अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अचानक अलविदा कहने पर लेग स्पिनर युजवेंद्रा सिंह चहल ने कहा है कि कोरोना ने धौनी के करियर को खत्म किया है, नहीं तो वह टी-20 विश्व कप में जरूर खेलते। कुलदीप यादव और मेरे करियर में धौनी ने बहुत मदद की है। उन्होंने एक बड़े भाई की तरह हमें सभी बारीकियों को बताया। अगर कोई गलती होती थी, तो वह ही हमें समझाते थे। उनके विकेट के पीछे खड़े होने से हम दोनों को ही बहुत फायदा हुआ।

शिवेंद्र चहल ने एक टीवी कार्यक्रम के दौरान कहा कि वो अब भी इंटरनेशनल क्रिकेट खेल सकते हैं और मैं चाहूंगा कि वो अब भी खेलें। भारतीय स्पिनर चहल ने कहा कि धौनी अगर मैदान पर रहते थे तो मेरा 50 फीसदी काम हो जाता था। उन्होंने कहा कि धौनी को पहले से ही पता होता था कि पिच का बर्ताव कैसा होगा और इससे हमें मदद मिलती थी। अगर वो नहीं होते हैं तो हमें पिच के बारे में समझने में ही दो ओवर लग जाते हैं।

वहीं दूसरी तरफ बीसीसीआइ के पूर्व अध्यक्ष एन श्रीनिवासन ने कहा कि दो बार के विश्व कप विजेता कप्तान धौनी के लिए अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में हासिल करने लिए कुछ नहीं बचा था। श्रीनिवासन ने यह भी कहा कि धौनी के संन्यास से एक युग का अंत हो गया। श्रीनिवासन ने कहा, जब धौनी कहते हैं कि वह संन्यास ले रहे हैं तो यह एक युग के खत्म होने जैसा है। उनकी कप्तानी में भारत ने 2007 में टी-20 विश्व कप जीता, 2011 में विश्व कप हासिल किया। इसके अलाव चैंपियंस ट्रॉफी की सफलता भी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here