पायलट के साथी ही करने लगे कार्यवाही की मांग, कभी भी गहलोत बुला सकते हैं विधानसभा सत्र

0

राजस्थान संकट को लेकर कांग्रेस का सब्र अब जवाब देने लगा है। पार्टी के अंदर पूर्व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट के प्रति हमदर्दी रखने वाले नेता और कार्यकर्ता भी अब उनके खिलाफ कार्रवाई की मांग करने लगे हैं। पार्टी नेताओं का कहना है कि इस मामले में फौरन कड़ी कार्रवाई की जानी चाहिए। क्योंकि भाजपा के साथ उनके संबंध साबित हो चुके हैं। इस बीच, मुख्यमंत्री अशोक गहलोत जल्द विधानसभा का सत्र बुलाकर सदन के अंदर अपनी सरकार का बहुमत साबित कर सकते हैं।

कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत सरकार के पास पूर्ण बहुमत है। भारतीय ट्राइबल पार्टी (बीटीबी) के दो विधायकों के समर्थन के बाद सरकार को और मजबूती मिली है। कुछ दिन पहले इन दोनों विधायकों ने कांग्रेस सरकार से समर्थन वापस ले लिया था, पर अब फिर दोनों विधायक कांग्रेस के पाले में आ गए हैं। ऐसे में सरकार को बहुमत साबित करने में कोई दिक्कत नहीं है।

पार्टी प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि अब भाजपा भी कहने लगी है कि बहुमत साबित करने की जरुरत नहीं है। ऐसे में यह सवाल लाजिमी है कि अशोक गहलोत बहुमत साबित कर क्या संदेश देना चाहते हैं।

पायलट समर्थकों का दावा हो जाएगा खत्म
पार्टी के एक नेता ने कहा कि सचिन पायलट समर्थक लगातार तीस विधायकों के समर्थन का दावा कर रहे हैं। विधानसभा में बहुमत से सचिन पायलट और समर्थकों का दावा खत्म हो जाएगा। साथ ही सचिन पायलट और उनके समर्थकों को पार्टी की तरफ से व्हिप जारी होने के बाद वोट डालने के लिए आना पड़ेगा। वह ऐसा नहीं करते हैं, तो पार्टी को उनकी सदस्यता रद्द कराने का एक और आधार मिल जाएगा।

सचिन पायलट को करना है फैसला
कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने एक बार फिर दावा किया अशोक गहलोत सरकार के पास 109 विधायकों का समर्थन है। इसलिए, भाजपा अब बहुमत साबित करने की मांग से पीछे हट गई है। सचिन पायलट के बारे में पूछे गए एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि अब निर्णय उन्हें करना है। वह भाजपा के षड्यंत्र में फंसना चाहते हैं या परिवार में बैठकर अपने मतभेद सुलझाने चाहते हैं।

संजय जैन ने वसुंधरा से मिलने का ऑफर दिया था : कांग्रेस विधायक
कांग्रेस विधायक राजेंद्र गुड़ा ने रविवार को एक बयान देकर राजस्थान की सियासी गर्मी को और बढ़ा दिया है। कांग्रेस विधायक ने दावा किया है कि एसओजी द्वारा गिरफ्तार किए गए संजय जैन ने उन्हें वसुंधरा राजे व अन्य नेताओं से मिलने के लिए कहा था। विधायक राजेंद्र गुड़ा ने कहा, संजय जैन आठ महीने पहले मेरे पास आए थे। उन्होंने मुझे वसुंधरा राजे व अन्य लोगों से मिलने के लिए कहा था। उनकी तरह दूसरे एजेंट भी हैं लेकिन वो लोग अपने मंसूबों में कामयाब नहीं हुए।

गहलोत खेमे में विधायकों की संख्या पर वह बोले, हम लोग नंबर में 100 से भी ज्यादा हैं। हमारे पास बहुमत है। अगर हमारे पास बहुमत नहीं होता तो वो भाजपा फ्लोर टेस्ट कराने की मांग करते। ये वो भी जानते हैं कि हमारे पास बहुमत है, इसलिए वो लोग फ्लोर टेस्ट कराने की मांग नहीं कर रहे हैं।

इस हफ्ते बुलाया जा सकता है विधानसभा सत्र
राजस्थान में चल रहे राजनीतिक उठापटक के बीच राजस्थान विधानसभा का एक संक्षिप्त सत्र इस सप्ताह बुलाया जा सकता है। सूत्रों ने बताया कि सरकार के समक्ष संक्षिप्त विधानसभा सत्र बुलाने सहित सभी विकल्प खुलें हैं। इधर, कांग्रेस नेता अजय माकन ने संवाददाताओं से बातचीत में कहा, सदन में शक्ति परीक्षण कब होगा। कैसे होगा यह निर्णय और इसकी घोषणा मुख्यमंत्री और सरकार को करनी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here