अब कांग्रेस के ये मंत्री हो गये नाराज, दिखाये बगावती तेवर

0

राज्यसभा चुनाव की तारीख नजदीक आने के साथ – साथ राजस्थान के सियासी गलियारों में हलचल तेज होती नजर आ रही हैं। इसी बीच कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट को दिल्ली से आए एक फोन कॉल ने सियासी पारा और बढ़ा दिया है.

जिसके बाद शनिवार दोपहर अचानक डिप्टी सीएम सचिन पायलट दिल्ली के लिए रवाना हुए. आला कमान से बुलावे के बाद सियासी हलकों में चर्चाओं का दौर शुरू हो गया है. इस बीच खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री रमेश मीणा ने राजस्थान कांग्रेस की मुश्किलें बढ़ा दी हैं।

वे सीएम अशोक गहलोत से नाराज चल रहे हैं. नतीजा है कि मीणा अब तक एक बार भी होटल नहीं आए हैं और न ही होटल में की जा रही किसी बैठक में हिस्सा लिया।

पायलट का भरोसा , साथ रहेंगे मीणा

पर्यवेक्षक टीएस सिंह देव ने माना कि रमेश मीणा नाराज चल रहे हैं. उनका कहना हैं कि पार्टी नेतृत्व को इस बारे में रिपोर्ट दे दी गई है. इस बाबत डिप्टी सीएम सचिन पायलट से भी बात हुई है. पायलट ने भरोसा दिलाया है कि रमेश मीणा हमारे साथ रहेंगे. हालांकि रणदीप सुरेजवाला और केसी वेणुगोपाल ने भी रमेश मीणा को मनाने की कोशिश की. पर बात बनी नहीं. मीणा होटल आने को तैयार नहीं हैं.

कांग्रेसी और निर्दलीय विधायकों के लगातार संपर्क में हैं गहलोत

इससे पहले, शनिवार को सचिन पायलट कांग्रेस की वर्कशॉप ले रहे थे. बताया जा रहा है कि जैसे ही सेशन खत्म हुआ, उनके पास दिल्ली से एक कॉल आई. डिप्टी सीएम फिर फौरन दिल्ली के लिए रवाना हो गए. सूबे में चल रही राज्यसभा चुनाव की सियासत को देखते हुए सचिन पायलट का ये दौरा काफी अहम माना जा रहा है.

मालूम हो कि राज्यसभा चुनाव के चलते राजस्थान में जारी उठापटक के बीच कांग्रेस और निर्दलीय विधायकों की राजधानी जयपुर के सात सितारा होटल में की गई स्वैच्छिक बाड़ेबंदी की कमान खुद सीएम अशोक गहलोत ने संभाल रखी है. सीएम रात को विधायकों के साथ ही रुक रहे हैं. शुक्रवार देर रात को सीएम गहलोत ने होटल में कांग्रेस और निर्दलीय विधायकों के साथ संवाद भी किया. अब 19 जून को वोटिंग होने तक सभी विधायक स्वैच्छिक बाड़ेबंदी में ही रहेंगे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here