आलाकमान से टकराने को तैयार गहलोत, सचिन गुट से दूरी बरकरार

0

14 अगस्त यानि कल से विधानसभा सत्र शुरू होने वाला हैं । जिसके लिए सभी विधायक तैयारियों में जुटे हुए हैं। दावे किए जा रहे हैं कि राजस्थान का सियासी दंगल खत्म हो गया है, लेकिन क्या वाकई सब कुछ ठीक है? अगर सब कुछ ठीक होता तो पायलट गुट और गहलोत गुट एक साथ होते, लेकिन अब भी दूरियां हैं। पिछले एक महीने से सुकून के साथ कुछ वक्त बिताने के बात गहलोत गुट के सारे विधायक जयपुर के फेयरमोंट होटल आए और पायलट भी अपने समर्थक विधायकों के साथ मंगलवार शाम से ही जयपुर में मौजूद हैं, लेकिन दिलचस्य बात ये हैं कि दोनों गुटों में अभी तक बातचीत का दौर शुरू नहीं हुआ हैं।
कल से शुरू होने वाले विधानसभा सत्र के लिए कांग्रेस विधायक तैयारियों में लगे हुए हैं लेकिन इसमें दिलचस्प बात यह हैं कि विधानसभा सत्र के लिए सचिन पायलट और उनके समर्थित विधायकों को अभी तक आमंत्रण नहीं भेजा गया हैं ।
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत भले ही दावा कर रहे हों कि सबको सम्मान देंगे जो हुआ वो इतिहास है, लेकिन उनके समर्थक विधायक अब भी पायलट पर निशाना साध रहे हैं। इस बीच खबर ये भी है कि गहलोत गुट के विधायकों ने राजस्थान के प्रभारी महासचिव केसी वेणुगोपाल के सामने पायलट गुट के साथ सुलह पर सवाल खड़े करने का मन भी बनाया है।इसकी एक झलक मंगलवार की शाम जैसलमेर के होटल मे तब दिखी थी जब विधायकों ने गहलोत के सामने ढेरों सवाल रख दिए थे। मंत्री प्रताप सिंह खचरियावास ने कहा कि जहां तक सचिन पायलट के वापस प्रदेश अध्यक्ष या उपमुख्यमंत्री बनाने की बात हैं, यह सब आलाकमान को तय करना हैं। यह मेरे हाथ में नही है।
साथ ही प्रताप सिंह खाचरियावास ने कहा कि हम सब मिलकर काम करेंगे और सचिन पायलट का मान सम्मान हर समय बना रहेगा ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here