गहलोत सरकार को मिली बडी सफलता, कोरोना के बीच गहलोत सरकार की बडी उपलब्धि

0

जयपुर. कोरोना संकट में प्रदेश की सरकार लगातार प्रयासरत है कि यह माहमारी प्रदेश में कम से कम फैले जिसके लिए लगातार मुख्यमंत्री, मंत्री लगातार बैठकें कर फीडबैक ले रहे हैं राजस्थान में कोरोना फैला लेकिन रिकवर भी जल्द हो रहा राजस्थान के डॉक्टरों ने अपनी जी जान इस बीमारी से लडने में लगायी हुयी है

कोरोना संकट में प्रदेश की गहलोत सरकार को एक उपलब्धि मिली है मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने प्रदेश में वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण को नियंत्रण में बताते हुए कहा है कि राज्य में अब इसके मरीजों के ठीक होने की दर 70 प्रतिशत से अधिक हो गई है। गहलोत ने शनिवार को सोशल मीडिया के जरिए कहा कि राज्य सरकार की ओर से कोरोना की रोकथाम के लिए निरंतर किए जा रहे प्रयासों के परिणामस्वरूप राज्य में कोरोना संक्रमण नियंत्रण में है। प्रदेश में कोरोना मरीजों के ठीक होने की दर 70 प्रतिशत से पहुंच गई है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार के निरंतर प्रयासों के कारण ही कोरोना संक्रमण नियंत्रण में है और प्रदेश में संक्रमितों की दोगुने होने की दर भी 18 दिन से बढ़कर 20 दिन हो गई है। उल्लेखनीय है कि प्रदेश में शनिवार सुबह तक कोरोना के दस हजार 128 मामले सामने आ चुके थे, जिनमें सात हजार 384 मरीज ठीक हो चुके हैं, इससे ठीक होने वाले मरीजों की दर 72.91 प्रतिशत तक पहुंच गई हैं। स्वस्थ हुए मरीजों में अब तक 6855 मरीजों को अस्पताल से छुट्टी भी दी जा चुकी है। राज्य में अब सक्रिय मरीजों की संख्या अब करीब ढाई हजार रह गई हैं।

सीएम गहलोत ने कहा कि प्रदेश में कोरोना के मामले जैसे ही सामने आए, राज्य सरकार ने इस चुनौती से निपटने के लिए धर्म गुरुओं, जनप्रतिनिधियों, स्वयंसेवी संगठनों, उद्यमियों सहित सभी वर्गों को साथ लिया। इस कारण राजस्थान में कोरोना की स्थिति नियंत्रण में रही। पूरे देश में इसकी सराहना हो रही है। उन्होंने कहा कि कोरोना का खतरा अभी टला नहीं है, ऐसे में धर्म स्थलों को फिर से खोले जाने में सभी के सुझाव महत्वपूर्ण हैं।

चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने कहा कि संकट की इस घड़ी को राज्य सरकार ने एक अवसर के रूप में लेते हुए प्रदेश में चिकित्सा के आधारभूत ढांचे को मजबूत करने की पहल की है। मुख्य सचिव डी.बी. गुप्ता ने कहा कि धर्म स्थलों को खोले जाने पर संक्रमण से बचाव को लेकर व्यवस्था, भीड़ के नियंत्रण तथा हैल्थ प्रोटोकॉल की पालना जैसे विषयों पर सुझावों के आधार पर ही उचित निर्णय लिया जा सकेगा।

अतिरिक्त मुख्य सचिव चिकित्सा रोहितकुमार सिंह ने बताया कि प्रदेश में अब तक कोरोना के 10 हजार से अधिक मामले सामने आए हैं, जिनमें से 7384 रोगी ठीक भी हो चुके हैं। अब तक इस दिशा में हमारा प्रबंधन बेहतर रहा है।

राजस्थान स्वास्थ्य विज्ञान विवि के कुलपति डॉ. राजाबाबू पंवार ने बताया कि प्रदेश में कोरोना की स्थिति फिलहाल नियंत्रित है। बहुत कम संख्या में इसके गंभीर मरीज सामने आए। जनभागीदारी के बिना यह संभव नहीं था। सवाई मानसिंह मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. सुधीर भंडारी ने भी विचार व्यक्त किए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here