गहलोत-सचिन कौन पड़ेगा भारी ? , अजय माकन का राजस्थान दौरा !

0

प्रदेश कांग्रेस के प्रभारी बनाये जाने के पश्चात अजय माकन का राजधानी जयपुर के दौरे पर हैं। इस दौरे के दौरान वे संगठन की कार्यप्रणाली व अहम मुद्दों पर वार्तालाप करेंगे ।
गौरतलब हैं कि प्रदेश में पिछले माह हुए घटनाक्रम के पश्चात सचिन पायलट के कहने पर कांग्रेस आलाकमान ने राजस्थान प्रदेश प्रभारी के पद से अविनाश पांडे को हटाकर अजय माकन को नियुक्त किया हैं।
अजय माकन के कंधो पर संगठन में मजबूती लाने और संगठन में चल रही आंतरिक कलह को समाप्त करने की जिम्मेदारी हैं।

माकन के जयपुर दौरे के दौरान 5 मुद्दे अहम रहेंगे जिनपर विचार-विमर्श किया जाना हैं। ये हैं वो –

  1. सत्ता संगठन की मजबूती को लेकर सुझाव मांगी जाएंगे

मतलब जो नाराजगी है उसको समझने की कोशिश की जाएगी

  1. गुटबाजी छोड़ पार्टी के अनुशासन पर फोकस

इसके जरिए वह रणनीति बनाई जाएगी, जिसके मूल में मंत्रिमंडल विस्तार होगा, संगठन में पद होगा और राजनीतिक नियुक्ति होगी जहां नाराजगी के स्वर सबसे ज्यादा होगी वहां माकन का फोकस ज्यादा रहेगा।

  1. जिला संगठन की खामियां और चुनौतियों पर चर्चा

इसके जरिए माकन यह चेक करेंगे कि गोविंद सिंह डोटासरा के प्रदेश अध्यक्ष बनने के बाद जिला संगठन में सचिन गुट और गोविंद डोटासरा गुट अलग-अलग तो नहीं, अगर ऐसा हुआ तो फिर सचिन पायलट के जरिए इस गुटबाजी को खत्म करने की कोशिश की जाएगी ।

  1. सरकार को मजबूत करने व उपलब्धि के प्रचार पर राय मशवरा

इसके जरिए जो बड़ी-बड़ी घोषणाएं की गई हैं उनको जनता तक पहुंचाने और जो सचिन पायलट गुट और गहलोत गुट है उनको एक करने की कोशिश की जाएगी, ताकि जनता के बीच में संदेश जाए कि बीजेपी की साजिश को फेल किया गया और कांग्रेस आज भी एकजुट है

  1. कार्यकर्ताओं की मजबूती को लेकर सुझाव

बीते दिनों देखा गया कि कार्यकर्ता सचिन पायलट के पक्ष में नारे लगाते हैं जहां गहलोत पहुंचते हुए गहलोत के पक्ष में नारे लगते हैं गुट साफ-साफ दिखाई देते हैं, कल भी जयपुर में सचिन पायलट गुट अलग ही दिखाई दिया था। ऐसे में अजय माकन के सामने जो सबसे बड़ी चुनौती होगी, वह कांग्रेस में गुटबाजी को खत्म कर कांग्रेस को एक करने की होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here