गणेश चतुर्थी पर भूलकर भी ना करें ये गलतियां हो जाएगा अनर्थ !

0

देवताओं में प्रथम पूजनीय गजानन ,लम्बोदर, गणपति का आज जन्मदिवस हैं । आज गणेश चतुर्थी हैं। ऐसी मान्यता हैं कि गणेश चतुर्थी से 10 दिन तक गणपति बप्पा अपने भक्तों के बीच में रहते हैं । देश में गणेश चतुर्थी का पर्व बड़ी धूम-धाम से मनाया जाता हैं। लेकिन कोरोना महामारी के चलते इस बार शायद वो पहले वाली रौनक देखने को ना मिले । रौनक ना सही लेकिन भक्तों की भक्ति कभी कम नहीं होती हैं । गणेश चतुर्थी को लेकर कुछ पुरानी मान्यताएं हैं ,जिनके लिए कहा जाता हैं कि गणेश चतुर्थी पर ऐसा करना घातक हो सकता हैं । भुलकर भी नहीं करनी चाहिए ये गलतियां –

गणेश चतुर्थी की पूजा में किसी भी व्यक्ति को नीले और काले रंग के कपड़े नहीं पहनने चाहिए. ऐसे में लाल और पीले रंग के कपड़े पहनना शुभ होता है.

गणपति की पूजा में नई मूर्ति का इस्तेमाल करें. पुरानी मूर्ति को विसर्जित कर दें. घर में गणेश की दो मूर्तियां भी नहीं रखनी चाहिए.

हिंदू धर्म के अनुसार गणेश चतुर्थी के दिन चंद्रमा के दर्शन नहीं करने चाहिए. यदि आप भूलवश चंद्रमा का दर्शन कर भी लें तो जमीन से एक पत्थर का टुकड़ा उठाकर पीछे की तरफ फेंक दें.

भगवान गणेश की मूर्ति के पास अगर अंधेरा हो तो ऐसे में उनके दर्शन नहीं करने चाहिए. अंधेरे में भगवान की मूर्ति
के दर्शन करना अशुभ माना जाता हैं।

गणपति की पूजा करते वक्त कभी तुलसी के पत्ते नहीं चढ़ाने चाहिए. मान्यता है कि तुलसी ने भगवान गणेश को लम्बोदर और गजमुख कहकर शादी का प्रस्ताव दिया था. गणेश भगवान ने नाराज होकर उन्हें श्राप दिया था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here