कॉलेजों की परीक्षाओं पर लगा ग्रहण, जून में भी नहीं हो सकेंगी कॉलेज की शेष परीक्षाएं

0

जयपुर. कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने के लिए दो महीने से ज्यादा समय से जारी लॉकडाउन के कारण दूसरे राज्यों की तरह राजस्थान के भी उच्च शिक्षण संस्थान बंद हैं.

लॉकडाउन की अवधि बढ़ाए जाने के कारण राजस्थान के कॉलेज और विश्वविद्यालयों में फिलहाल शिक्षण व्यवस्थाओं को दोबारा शुरू होने के लिए और इंतजार करना होगा. राज्य के उच्च शैक्षणिक संस्थानों में अब ग्रीष्मावकाश 15 जून तक बढ़ा दिया गया है. उच्च शिक्षा विभाग ने इसे लेकर दिशा निर्देश जारी किए हैं.

पहले प्रदेश के कॉलेज और विश्वविद्यालयों में 16 अप्रैल से 31 मई तक ग्रीष्म अवकाश की घोषणा की गई थी, जिसे अब बढ़ाकर 15 जून तक कर दिया गया है. कोराना महामारी के संक्रमण की मौजूदा स्थिति को देखते हुए उच्च शिक्षा विभाग ने यह फैसला किया है. उच्च शिक्षा विभाग के निर्णय के बाद कॉलेज शिक्षा आयुक्तालय ने आदेश भी जारी कर दिए हैं और सभी राजकीय और निजी कॉलेजों को इस बारे में सूचित कर दिया गया है.

राजस्थान यूनिवर्सिटी में भी 15 जून तक बढ़ा दिया गया ग्रीष्मावकाशराजस्थान यूनिवर्सिटी में भी 30 मई की दोपहर में यह घोषणा कर दी गई है कि विश्वविद्यालय में ग्रीष्मावकाश 31 मई के बाद अब 15 जून तक की बढ़ा दी गई है.

प्रदेश के तमाम विश्वविद्यालय और कॉलेज ग्रीष्मावकाश को आगे बढ़ा सकेंगे. उच्च शिक्षा मंत्री भंवर सिंह भाटी ने कहा कि कोरोना के संक्रमण का खतरा अभी भी बना हुआ है. ऐसे में ग्रीष्म अवकाश की अवधि 15 दिन बढ़ाकर से 2 महीने तक का कर दिया गया है. उच्च शैक्षणिक संस्थानों की परीक्षाओं के मसले को लेकर भाटी का कहना है कि शेष बची परीक्षाओं को रीशेड्यूल किया जा रहा है. इस बारे में जल्द ही फैसला किया जाएगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here