सीएम गहलोत बने संकटमोचक, रघु शर्मा ने निभायी सारथी की भूमिका

0

जयपुर. राजस्थान लगातार कोरोना संकट से जूझ रहा है हालांकि प्रदेश में कोरोना संक्रमितों की रिकवरी रेट भी बेहतर है कोरोना के भंवर में फंसे प्रदेश के लिए सूबे के मुखिया अशोक गहलोत जनता के लिए संकटमोचक बनकर सामने आये अशोक गहलोत ने अपनी कुशल रणनीति के जरिए ना केवल प्रदेश को संकट के भंवर में संभाला बल्कि आगे की राह को भी आसान बनाया है.

इस संकट में सीएम गहलोत के साथ रघु शर्मा ने जमकर साथ निभाया और प्रदेश में सर्वश्रेष्ठ चिकित्सा मंत्री की छाप छोडी इसमें कोई शक नहीं की प्रदेश को इस संकट में परेशानी न हो और यह खतरा ज्यादा न फैले इसलिए मुखिया गहलोत और रघु शर्मा की जोडी ने दिन रात एक कर दिया !

प्रदेश के मुखिया अशोक गहलोत और रघु शर्मा की इस जोडी ने प्रदेश की जनता के लिए इस कठिन समय में कई कडे फैसले भी लिये जिनका उचित परिणाम भी देखने को केन्द्र सरकार से पहले लॉकडाउन करके अपने इस फैसले से केन्द्र सरकार के साथ साथ पूरे देश की जनता का ध्यान अपनी ओर आकर्षित किया ! छात्रों के स्वास्थ को ध्यान में रखते हुये व संक्रमण न फैले इसलिए सीएम गहलोत ने कदम उठाया कि स्कूल-कॉलेजों में चल रही परीक्षाओं को स्थगित किया जाये और छात्रों को अपने अपने घर भेजा जाये !

जब केन्द्र सरकार ने पूरे देश में लॉकडाउन लागू किया तब प्रवासी राजस्थानीयों के लिए सूबे के मुखिया ने उचित इंतजामात किये किसानों के लिए भी मंडियों में तमाम व्यवस्थाएं की ! प्रदेश का कोई भी व्यक्ति भूखा न सोये इसके लिए भी मुखिया अशोक गहलोत ने अभियान चलाया सत्ता पक्ष एवं विपक्ष के सभी विधायकों के साथ संवाद कर उनके सुझावों पर काम करके इस संकट से प्रदेश को संभालने का काम किया !

सीएम का भीलवाडा मॉडल पूरे देश में सराहनीय रहा पीएम मोदी ने भी मुख्यमंत्री गहलोत की तारीफ करते हुये कहा था कि सभी राज्यों को राजस्थान से सीखने की जरूरत प्रदेश के सरपंचों से भी सीधा संवाद कर उन्होनें एक नया इतिहास बनाया और ग्रामीण क्षेत्रों में संक्रमण न फैलने देने की रणनीति बनाकर उसे सफल भी बनाया और बाकि प्रदेशों से काफी बेहतर स्थिती में लाकर प्रदेश को खडा किया इस कठिन समय में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के कार्यों की सराहना पूरे प्रदेश की जनता कर रही है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here