July 24, 2021

गहलोत की ज़िद के चलते रूक गया प्रदेश में मंत्रीमंडल विस्तार ?

1 min read

राजस्थान में कांग्रेस का सियासी संग्राम पहले की अपेक्षा शांत तो होने लगा है लेकिन मंत्रिमंडल विस्तार का काम मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और पूर्व उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट की जिद के कारण अटका हुआ है !

पायलट ने अपने खेमे के नाम सीएम को न देकर सीधा राष्ट्रीय महासचिव अजय माकन को सौंपे हैं !

गहलोत पायलट खेमे के आधा दर्जन नेताओं को विभिन्न बोर्ड एवं निगमों में चेयरमैन बनाने पर सहमत हैं कुछ नेताओं को सदस्य के रूप में नियुक्त किया जाएगा !

loading...

लेकिन सबसे महत्वूपर्ण मंत्रिमंडल विस्तार पर दोनों के बीच सहमति नहीं हो पा रही है वहीं पायलट अपने 4 से 6 समर्थकों को मंत्री बनवाना चाहते है !

तो वहीं गहलोत 2 से 3 लोगों को ही मंत्री बनाने के पक्ष में हैं साथ ही गहलोत पायलट खेमे के मंत्रियों को विभाग भी अपनी मर्जी से ही देने के पक्ष में है !

लेकिन पायलट परिवहन सार्वजनिक निर्माण और पंचायती राज और ग्रामीण विकास जैसे बड़े महकमें अपने समर्थको को दिलवाना चाहते हैं !

loading...

पायलट कोटे के मंत्रियों की संख्या तय नहीं करवा सके माकन लंबे समय से राज्य का सियासी संग्राम खत्म करवाने में जुटे हैं !

इसके लिए उन्होनें कई बार सीएम और पायलट से बात की, पिछले दिनों जयपुर आकर भी अजय माकन ने सीएम से दो दिन तक लगातार बात की लेकिन वे पायलट कोटे के मंत्रियों की संख्या तय नहीं करवा सके !

loading...

सूत्रों के अनुसार सीएम चाहते हैं कि बगावत के समय पायलट सहित हटाए गए 3 मंत्री सचिन खेमे के बनाए जाएं और उनके विभाग भी वह खुद तय करें !

गहलोत के इस रूख से पायलट खेमा नाखुश है और पायलट की इच्छा है कि ढ़ाई साल पहले सत्ता में आते ही सरकार गठन के समय उनके कोटे से 6 मंत्री बनाए गए थे इसी तरह अब 6 मंत्री बनाए जाएं !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...